हरिद्वार

महिला डॉक्टर व कंपनी कर्मचारी हुए ऑनलाइन साईबर ठगी का शिकार, हरिद्वार पुलिस की सूझबूझ से लौटी रकम

ऋषभ चौहान हरिद्वार जिला सवांददाता

हरिद्वार की गूंज (24*7)
(ऋषभ चौहान) हरिद्वार। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद हरिद्वार द्वारा वर्तमान समय में बढ़ते साईबर अपराधों के दृष्टिगत जनपद में गठित साईबर सेल को साइबर अपराधों से सम्बन्धित शिकायतें प्राप्त होने पर त्वरित कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया है। जिसके क्रम में शिकायतकर्ता सुश्री प्रकृति कौल निवासी सैक्टर-3 बीएचईएल रानीपुर व हरिद्वार का शिकायती प्रार्थना पत्र साइबर सैल हरिद्वार में दिया कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने शिकायतकर्ता के साथ रु० 10,000/- की ऑनलाईन ठगी की है। शिकायतकर्ता द्वारा बताया गया कि एक अज्ञात नंबर द्वारा उसे मोबाइल फ़ोन पर कॉल आया है जिसने उसे अपना ड्राइवर होना बताया। उक्त व्यक्ति द्वारा बताया गया है की धनराशि उसके बैंक अकाउंट में किसी कारणवश जमा नहीं हो पा रही है, तथा वह उक्त धनराशि को अपने अकाउंट में रिसीव कर ले। जिसके क्रम में शिकायतकर्ता द्वारा विपक्षी के द्वारा भेजे गए पे रिक्वेस्ट को स्वीकार कर लिया गया है, तथा इस प्रकार यूपीआई के माध्यम से शिकायतकर्ता के बैंक खाते से ₹10,000 की धनराशि की कटौती हो गयी। उक्त प्रकरण के जाँच के क्रम में पुलिस उपाधीक्षक ऑपरेशन सुश्री निहारिका सेमवाल के नेतृत्व में जनपद की साईबर सैल द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए आवेदिका के खाते से कटी धनराशि का लेन-देन का विवरण प्राप्त किया गया। आवेदक के खाते से कटी उपरोक्त धनराशि के सम्बन्ध में सम्बन्धित पेमेन्ट गेटवे के नोडल अधिकारी से पत्राचार कर आवेदक के खाते से कटी धनराशि रु० 10,000/- रुपये की धनराशि को आवेदिका के खाते में वापस करायी गयी। ऐसे ही एक अन्य प्रकरण में हरिद्वार निवासी निवासी विपिन चंद्र पुजारी के द्वारा साइबर सेल को अवगत कराया गया है कि किसी व्यक्ति द्वारा उसे मोबाइल फ़ोन पर कॉल कर उसे अपना आर्मी में नौकरी करने वाला मित्र होना बताकर उसके बैंक अकाउंट में धनराशि को जमा करने हेतु पे रिक्वेस्ट भेजी गयी। जिसके झांसे में आकर उसके बैंक अकाउंट से धन राशि ₹19,998 उक्त व्यक्ति द्वारा धोखाधड़ी कर निकाल लिए गए। जनपद की साईबर सैल द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए आवेदिका के खाते से कटी धनराशि का लेन-देन का विवरण प्राप्त किया गया। विवरण द्वारा ज्ञात हुआ कि शिकायतकर्ता की धनराशि का प्रयोग होगा ऑनलाइन रम्मी गेम खेलने हेतु किया गया है। जिसपर साइबर सेल द्वारा अग्रिम कार्रवाई करते हुए तत्काल संबंधित कंपनी के नोडल अधिकारी से पत्राचार किया गया तथा जिस अकाउंट में उक्त धनराशि को क्रेडिट किया गया था, उस धनराशि को तत्काल होल्ड करवाया गया है। इस प्रकार उक्त धनराशि 19998रु को आवेदक को बैंक खाते में वापस करायी गयी। पीड़ित व्यक्ति द्वारा साईबर सैल के उक्त कार्य की सराहना करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया गया। आमजन द्वारा साइबर ठगी का शिकार होने पर सूचना साइबर सेल को दी जा रही है। सूचना पर साईबर सैल द्वारा तत्परता से कार्य किया जा रहा है, जिसमें जनपद की साइबर सेल को सफलता भी प्राप्त हो रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *